मैं दिल की बात कहता हूँ, इशारा जान लेना तुम,,

  
 Vivek Rajpoot, विवेक राजपूत hindi kavi

हिन्दी कविता, गीत और गज़ल को सरल रुप में लोगों तक ले जाने के लिए एक छोटा सा प्रयास

For More, Visit- http://www.vivekrajpoot.com

8 responses to “मैं दिल की बात कहता हूँ, इशारा जान लेना तुम,,”

  1. Vishu Mishra says :

    really nice blog vivek, your grasp over hindi poetry n concept of rhyme is splendid. i was looking for some inspiration in hindi poetry,i guess this will b apt.
    we are brothers in blog theme so i suggest you write more abouturself in author’s introduction 🙂 keep up.

  2. Ajay Rajput says :

    जरूरी तो नही जीने के लिए कोई सहारा हो
    जरूरी तो नही जिसके हम हो वो हमारा हो
    बहुक सी कश्ती डूब जाती है बीच नदियों में
    जरूरी तो नही हर कश्ती के लिए कोई किनारा हो

  3. Ajay Rajput says :

    जरूरी तो नही जीने के लिए कोई सहारा हो
    जरूरी तो नही जिसके हम हो वो हमारा हो
    बहुत सी कश्ती डूब जाती है बीच नदियों में
    जरूरी तो नही हर कश्ती के लिए कोई किनारा हो

  4. Kapil. Yadav says :

    Nice sir
    Bhut kaltmak roop se Kavita ko apne.bahndha apne sabdo me

    Pranam svikare

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s