Archive | June 2015

मधुलिका हिन्दी काव्य से

Hindi Kavi Vivek Rajpoot 

मेरा एक काव्यांश-

—————————–

बिलखता क्यूं ? ये हृदय शिशु सा,

व्यथा हैं क्या मेरे मन की?

पिऊ – पिऊ कर किसे पुकारे?

विरहिन कोकिल ये वन की,,
विवेक राजपूत 

A Collection Hindi Poems, Hindi Geet, Hindi Poetry, Shayari & Ghazals

by – Vivek Rajpoot, Hindi Poet

 हिन्दी कविताएँ, हिन्दी काव्य, हिन्दी गीत, शायरी व गज़लों का संग्रह

 द्वारा – विवेक राजपूत, हिन्दी कवि

For More Visit – http://www.vivekrajpoot.com 

vivek rajpoot hindi poet

 

Madhulika – Hindi Poetry

मेरा एक काव्यांश——————————

बिलखता क्यूं ? ये हृदय शिशु सा,

व्यथा हैं क्या मेरे मन की?

पिऊ – पिऊ कर किसे पुकारे?

विरहिन कोकिल ये वन की,,
विवेक राजपूत

Hindi Kavi Vivek Rajpoot